Google बार्ड के बारे में 10 रोचक तथ्य

Google बार्ड के बारे में 10 रोचक तथ्य

1.गूगल बार्ड को 8 फरवरी, 2023 को जारी किया गया था।

1.गूगल बार्ड को 8 फरवरी, 2023 को जारी किया गया था।

2.बार्ड गूगल के LaMDA मॉडल पर आधारित है।

2.बार्ड गूगल के LaMDA मॉडल पर आधारित है।

3.गूगल AI टीम 2017 से ही लैमडा पर काम कर रहा है।

3.गूगल AI टीम 2017 से ही लैमडा पर काम कर रहा है।

4.बार्ड के लैंग्वेज मॉडल को 750GB से अधिक डेटा का उपयोग करके प्री-ट्रेंड किया गया है।

4.बार्ड के लैंग्वेज मॉडल को 750GB से अधिक डेटा का उपयोग करके प्री-ट्रेंड किया गया है।

5.बार्ड को पब्लिक डेटासेट से 1.56 ट्रिलियन शब्दों का उपयोग करके ट्रेंड किया गया था।

5.बार्ड को पब्लिक डेटासेट से 1.56 ट्रिलियन शब्दों का उपयोग करके ट्रेंड किया गया था।

6.वर्तमान में, Google Bard 43 भाषाओं में उपलब्ध है।

6.वर्तमान में, Google Bard 43 भाषाओं में उपलब्ध है।

7.Bard Chatbot 230+ से अधिक देशों में उपलब्ध है। 

7.Bard Chatbot 230+ से अधिक देशों में उपलब्ध है। 

8.Google बार्ड को 60% पुरुष और 40% महिला इस्तेमाल करते हैं।

8.Google बार्ड को 60% पुरुष और 40% महिला इस्तेमाल करते हैं।

9.अमेरिका में Google बार्ड पर 37.24% ट्रैफ़िक है। 

9.अमेरिका में Google बार्ड पर 37.24% ट्रैफ़िक है। 

10.दूसरे नंबर पर गूगल बार्ड में सबसे ज्यादा ट्रैफिक 9.56% भरता से आता है। 

10.दूसरे नंबर पर गूगल बार्ड में सबसे ज्यादा ट्रैफिक 9.56% भरता से आता है।