Oximeter क्या है, कैसे काम करता है और कहां से खरीदें?

Pulse Oximeter kya hai

Pulse Oximeter क्या है, साल 2021 की शुरुवात यानि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण देश की परिस्थिति को देखने के बाद से ही देश में लोग सेहत के प्रति जागरूक होने लगे। और अपने स्वास्थ्य की निगरानी पे ज्यादा ध्यान देने लगे। कोरोना संक्रमित लोगो में आम लक्षणों में से एक है साँस की समस्याएं । ऐसे में शरीर में ऑक्सीजन स्तर को जांचने के लिए Oximeter उपयोगी साबित होता है।

आज के समय दूसरे जरुरी घरेलु हेल्थ उपकरण थर्मामीटर की तरह ही Oximeter भी रखना जरुरी हो गया है और डॉक्टर्स भी इसकी सलाह देते है। बहुत से लोग इसके नाम से भली भांति परिचित होंगे परन्तु इसके बारे में ज्यादातर लोगो को जानकारी नहीं है। तो आइये जानें Pulse Oximeter क्या होता है और Oximeter कैसे काम करता है।

Oximeter क्या है

Oximeter क्या है
Oximeter क्या है

पल्स ऑक्सीमीटर एक ऐसा डिजिटल डिवाइस है जिसके प्रयोग से खून में ऑक्सीजन के स्तर यानी ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल को मापा जाता है। इसके परिणाम बहुत ही भरोसेमंद होते है। और इसमें परिक्षण करना दर्द रहित है। यह छोटी क्लिप जैसा होता है, और इसका इस्तेमाल बड़ी आसानी से किया जा सकता है। बस इसे उंगलियों में कुछ मिनट लगाके ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल का परिक्षण किया जा सकती है। इसमें परिक्षण के परिणाम की रीडिंग देखने के लिए एक डिस्प्ले भी लगा रहता है।

अस्पतालों में ऑक्सीमीटर का प्रयोग ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल जांचने के लिए उंगलियों के अलावा पैरो की उंगलियों और कान के निचले हिस्सों पर भी किया जाता है। पर घरो में पोर्टेबल फिंगरटिप पल्स ऑक्सीमीटर का इस्तेमाल किया जाता है।

फिरंगेरटिप पल्स ऑक्सीमीटर में ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल परिक्षण के अलावा दूसरी खुबिया भी होती है इसमेंरेस्पिरेटरी रेट (Respiratory Rate), हार्ट रेट और पल्स रेट को भी मापा जा सकता है। आशा है अबतक आपने Pulse Oximeter क्या है जान ही लिया होगा।

Oximeter कैसे काम करता है

Oximeter कैसे काम करता है

पल्स ऑक्सीमीटर में ऊँगली लगाने के लिए इसकी बनावट बिलकुल ही कपडे टांगने वाले क्लिप की तरह होती है। जैसे ही इसमें ऊँगली लगाने के बाद परिक्षण के लिए बटन दबाई जाती है। यह उँगलियों में अवरक्त अवरक्त प्रकाश किरणे छोड़ती है। इसके जरिये ये डिवाइस रक्त कोशिकाओं के रंगो और उनके हलचल का पता कर लाल रक्त कोशिकाओं में उपलब्ध ऑक्सीजन की मात्रा का परिक्षण करता है।

खून में जितनी लाल रक्त कोशिकाएं चमकदार होती है उनमे ऑक्सीजन की मात्रा सही रहती है और जो गहरे लाल रंग के होते उनमे ऑक्सीजन का स्तर ठीक नहीं होता है।चमकदार और गहरे लाल रक्त कोशिकाओं के अनुपात की गणना Spo2 माप के आधार पे होती है। जो की इसके डिस्प्ले में परिणाम के रूप में हृदय दर के साथ दिखाई देता है।

शरीर ऑक्सीजन लेवल कितना होना चाहिए

एक सामन्य जानकारी के आधार पर ह्यूमन बॉडी में ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल कम से कम 96 प्रतिशत तक होनी चाहिए। और इससे कम होने पर चिकित्स्कीय परामर्श लेना जरुरी होता है।

घरो में ऑक्सीमीटर रखना क्यों जरूरी है ?

जैसा की आप सभी कोरोना की दूसरी लहर के बढ़ते कहर के कारण देश के अस्पतालों में मरीजों की बढ़ती संख्या के बारे में जानते होंगे। इसलिए सामान्य लक्षणों वाले कोरोना संक्रमितों को होम आइसोलेशन में रखकर उनका इलाज किया जाता है। और उन्हें विशेषज्ञों द्वारा घरो में ही रहकर अपने ऑक्सीजन स्तर की जांच करते रहने के लिए कहा जाता है। और स्वस्थ लोग इसे एक जरुरी घरेलु हेल्थ टूल के रूप में रख सकते है। क्योकि इसे अपने सेहत क नगरानी के लिए प्रयोग किया जा सकता है।

Pulse Oximeter कहाँ से ख़रीदे

इस डिवाइस को आप किसी भी दवाई दूकान से खरीद सकते है। आजकल इसकी मांग काफी बढ़ चुकी है, तो ऐसे में यदि आपके पास के दवाई दुकानों में उपलब्ध ना हो, तो आप इसे फ्लिपकार्ट या अमेज़न जैसे वेबसाइट से भी आर्डर कर सकते है। व्यक्तिगत या घरेलु इस्तेमाल के लिए Best Pulse Oximeter बहुत ही काम दामों में ख़रीदे जा सकते है। इसकी कीमते 500 से 5000 रूपये तक हो सकती है। उम्मीद है आपको हमारा Pulse Oximeter क्या है? लेख जरुर पसंद आया होगा।

More Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Fill out this field
Fill out this field
Please enter a valid email address.
You need to agree with the terms to proceed

Menu