Third Generation of Computers – कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी

कंप्यूटर के विकास को प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण प्रगति द्वारा चिह्नित किया गया है। कंप्यूटर की प्रत्येक पीढ़ी अपने पूर्ववर्तियों की तुलना में नई सुविधाएँ और सुधार लेकर आई है। इस लेख में, हम कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी के बारे में बात करेंगे, जोकि मुख्य रूप से integrated circuits (ICs) पर आधारित थी। 1964 से 1970 तक चली इस पीढ़ी ने कंप्यूटिंग उद्योग में क्रांति ला दी और इस क्षेत्र में और प्रगति के लिए मंच तैयार किया।

Third-generation computers: Integrated circuits

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी में ट्रांजिस्टर के बजाय integrated circuits के उपयोग की ओर बदलाव देखा गया। इंटीग्रेटेड सर्किट, जिन्हें IC या चिप्स के रूप में भी जाना जाता है ये छोटे इलेक्ट्रॉनिक घटक होते हैं जिनमें एक semiconductor substrate पर हजारों ट्रांजिस्टर, रेसिस्टर्स और कैपेसिटर होते हैं। इस महत्वपूर्ण तकनीक को पहली बार 1959 में फेयरचाइल्ड सेमीकंडक्टर के रॉबर्ट नॉयस और टेक्सास इंस्ट्रूमेंट्स के जैक किल्बी द्वारा विकसित किया गया था।

इंटीग्रेटेड सर्किट को अपनाने से कंप्यूटर को कई लाभ हुए। सबसे पहले, इसने उन्हें पिछली पीढ़ियों की तुलना में अधिक विश्वसनीय, कुशल और आकार में छोटा बना दिया। Integrated circuits तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में प्राथमिक तर्क तत्व के रूप में कार्य करता है, कंप्यूटर मेमोरी, माइक्रोप्रोसेसर और एम्पलीफायरों के रूप में कार्य करता है। ingle chip ने कंप्यूटर के प्रदर्शन और कार्यक्षमता को काफी बढ़ा दिया।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर की विशेषताएँ

integrated circuits के आगमन से तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में कई नए फीचर्स और सुविधाएँ आईं। ये कंप्यूटर तेज़ प्रोसेसिंग गति, बेहतर विश्वसनीयता से लैस थे और अपने पूर्ववर्तियों की तुलना में कम गर्मी उत्पन्न करते थे। वे अधिक ऊर्जा-कुशल भी थे, संचालन के दौरान कम बिजली की खपत करते थे। हालाँकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन फायदों के बावजूद, तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों को ओवरहीटिंग से बचाने के लिए अभी भी एयर कंडीशनिंग की आवश्यकता होती है।

प्रोग्रामिंग के संदर्भ में, तीसरी पीढ़ी उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं का उपयोग लेकर आई। इस युग के दौरान ALGOL-68, FORTRAN-II to IV, BASIC, COBOL, Pascal PL/1 और कई अन्य का उपयोग किया गया। इन उच्च स्तरीय भाषाओं ने प्रोग्रामिंग को अधिक सुलभ बना दिया और जटिल सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों के विकास को सुविधाजनक बनाया।

तीसरी पीढ़ी में एक और महत्वपूर्ण विकास मल्टीप्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम, टाइम-शेयरिंग और रिमोट प्रोसेसिंग की शुरूआत हुई। इन नवाचारों ने कई उपयोगकर्ताओं को एक ही कंप्यूटर तक एक साथ पहुंचने की अनुमति दी, जिससे दक्षता और उत्पादकता में वृद्धि हुई। इसके अतिरिक्त, तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर magnetic storage से लैस थे, जिससे पिछली पीढ़ियों की तुलना में भंडारण क्षमता में वृद्धि हुई।

विशेषताएँ: Third-generation computers

  1. इन कंप्यूटरों में मल्टी प्रोग्रामिंग करने की सुविधा थी।
  2. ये कंप्यूटर कम बिजली की खपत करते थे।
  3. इन कंप्यूटरों में IC का उपयोग किया जाता था।
  4. ये कंप्यूटर कम गर्मी उत्पन्न करते थे।
  5. इन कंप्यूटरों का रख-रखाव आसान था।
  6. ये कंप्यूटर पिछली दो पीढ़ियों की तुलना में अधिक विश्वसनीय थे।
  7. ये कंप्यूटर आकार में छोटे होते थे। 
  8. ये कंप्यूटर तेज़ गति प्रदान करते थे। 
  9. इन कंप्यूटरों को AC की आवश्यकता होती थी।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के उदाहरण

तीसरी पीढ़ी के दौरान integrated circuits की क्षमताओं को प्रदर्शित करने वाले कई उल्लेखनीय कंप्यूटर उभरे। ऐसा ही एक कंप्यूटर IBM System/360 सीरीज था, जिसे उस युग की सबसे महत्वपूर्ण मशीनों में से एक माना जाता है। 1966 में पेश किया गया, आईबीएम सिस्टम/360 एक शक्तिशाली और बहुमुखी मशीन थी जिसे वैश्विक मौसम पूर्वानुमान, सैद्धांतिक खगोल विज्ञान, अंतरिक्ष अन्वेषण और उप-परमाणु भौतिकी जैसे वैज्ञानिक क्षेत्रों में उच्च गति डेटा प्रोसेसिंग के लिए डिज़ाइन किया गया था।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के अन्य उदाहरणों में PDP series, Honeywell-6000, and DEC series शामिल हैं। इन कंप्यूटरों ने विभिन्न उद्योगों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उन्नत कंप्यूटिंग क्षमताओं की पेशकश की और प्रौद्योगिकी की तीव्र प्रगति में योगदान दिया।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के नाम

  1. IBM-360 series.
  2. PDP-11 (Personal Data Processor)
  3. TDC-316.
  4. UNIVAC 1108.
  5. ICL 2900.
  6. IBM-370/168.
  7. CDC 6600.
  8. Honeywell-6000 series.

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के लाभ

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी ने कई विशेषताएं प्रदर्शित कीं जो उन्हें अपने पुराने पीढ़ी से अलग करती हैं। ये कंप्यूटर अधिक विश्वसनीय, कुशल और आकार में छोटे थे। integrated circuits के उपयोग ने उन्हें तेज़ बना दिया, कम गर्मी उत्पन्न की और कम रखरखाव की आवश्यकता हुई। इसके अतिरिक्त, तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों ने उच्च भंडारण क्षमता की पेशकश की, जिससे बड़ी मात्रा में डेटा के भंडारण और गणना की अनुमति मिली। उनकी सटीकता और परिशुद्धता ने उन्हें सटीक गणना की आवश्यकता वाले कार्यों के लिए आदर्श बना दिया।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के लाभ महत्वपूर्ण थे। उनके छोटे आकार और integrated circuits में घटकों के समेकन के कारण उन्हें कम भौतिक स्थान की आवश्यकता होती है। एकीकृत सर्किट के उपयोग के परिणामस्वरूप कम गर्मी उत्पन्न हुई और कम ऊर्जा खपत हुई, जिससे हार्डवेयर विफलताएं कम हुईं। उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं की शुरूआत ने सॉफ्टवेयर विकास को सरल बनाया और इन कंप्यूटरों की क्षमताओं का विस्तार किया। इसके अलावा, तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर पोर्टेबल थे और बेहतर गति प्रदान करते थे, जिससे वे अत्यधिक बहुमुखी और विभिन्न कंप्यूटिंग आवश्यकताओं के अनुकूल बन गए।

Advantages

  1. इन कंप्यूटरों को कम ऊर्जा की आवश्यकता होती थी।
  2. इन कंप्यूटरों में पिछली पीढ़ियों की तुलना में कम हार्डवेयर विफलता थी।
  3. इन कंप्यूटरों में पंच कार्ड के स्थान पर माउस और कीबोर्ड का उपयोग किया जाता था।
  4. इन कंप्यूटरों में मल्टीटास्किंग की जा सकती थी
  5. पिछली पीढ़ियों की तुलना में इनका आकार छोटा था।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर की सीमाएं

अपने कई फायदों के बावजूद, तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों की कुछ सीमाएँ थीं। मुख्य कमियों में से एक तापमान बनाए रखने के लिए एयर कंडीशनिंग की निरंतर आवश्यकता थी। integrated circuit चिप्स की विनिर्माण प्रक्रिया के लिए भी अत्यधिक परिष्कृत तकनीक की आवश्यकता होती है, जिससे उनका उत्पादन महंगा हो जाता है। इसके अतिरिक्त, integrated circuit के रख-रखाव ने चुनौतियाँ पेश कीं।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों को संचालित करने और बनाए रखने के लिए औपचारिक प्रशिक्षण आवश्यक था। प्रौद्योगिकी की जटिलता और integrated circuits पर निर्भरता के लिए विशेष ज्ञान और कौशल की आवश्यकता थी। इसके अलावा, integrated circuits चिप्स की विनिर्माण लागत तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों के कुल खर्च में बढ़ गई, जिससे उद्योग के कुछ क्षेत्रों तक उनकी पहुंच सीमित हो गई।

निष्कर्ष

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी ने प्रौद्योगिकी और कंप्यूटिंग के विकास में एक महत्वपूर्ण योगदान दिया। integrated circuits की शुरूआत ने उद्योग में क्रांति ला दी, कंप्यूटर को प्रदर्शन, विश्वसनीयता और दक्षता के नए स्तरों पर पहुंचा दिया। इन प्रगतियों ने आधुनिक कंप्यूटिंग प्रणालियों के विकास का मार्ग प्रशस्त किया।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटरों में integrated circuits के उपयोग से छोटे आकार, तेज गति और उच्च भंडारण क्षमता सहित कई लाभ हुए। उच्च-स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं को अपनाने और मल्टीप्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्यान्वयन ने इन कंप्यूटरों की क्षमताओं को और विस्तारित किया। हालाँकि उनकी कुछ सीमाएँ थीं।

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी ने कंप्यूटिंग प्रौद्योगिकी में आगे की प्रगति के लिए मंच तैयार करते हुए, बाद की पीढ़ियों की नींव रखी। इस युग के नवाचारों के माध्यम से ही हम आज के परिष्कृत और शक्तिशाली कंप्यूटर तक पहुंच पाए हैं। जैसे-जैसे प्रौद्योगिकी का विकास जारी है, हम तीसरी पीढ़ी को कंप्यूटिंग के इतिहास में एक महत्वपूर्ण समय के रूप में देख सकते हैं।

FAQs

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी की क्या विशेषता है?

1. कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी की विशेषता है – 
2. इन कंप्यूटरों का रख-रखाव आसान था।
3. ये कंप्यूटर पिछली दो पीढ़ियों की तुलना में अधिक विश्वसनीय थे।
4. ये कंप्यूटर आकार में छोटे होते थे। 
5. ये कंप्यूटर तेज़ गति प्रदान करते थे। 
6. इन कंप्यूटरों को AC की आवश्यकता होती थी।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के संस्थापक कौन है?

जैक किल्बी नाम के एक अमेरिकी इलेक्ट्रिकल इंजीनियर ने IC (Integrated Circuits) का आविष्कार किया था।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में किस ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया जाता है?

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी में टाइम शेयरिंग, रिमोट प्रोसेसिंग और मल्टीप्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया गया।

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी कब शुरू हुई?

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी 1964 से 1971 के बीच की मानी जाती है।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के नाम

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के नाम – IBM-360 series, PDP-11 (Personal Data Processor), TDC-316, UNIVAC 1108, ICL 2900, IBM-370/168, CDC 6600, Honeywell-6000 series.

निवेदन

उम्मीद है कि आपको यह लेख (Third Generation of Computers in Hindi – कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी) जरूर पसंद आया होगा।

अगर यह Article आपके लिए उपयोगी रहा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और आपके जो भी सवाल हों उन्हें नीचे कमेंट करके बताएं।

Leave a Comment