Domain Name क्या है और डोमेन कैसे काम करता हैं?

Domain Name क्या है और डोमेन कैसे काम करता हैं?

Domain Name क्या है, एक वेबसाइट या सेल्फ होस्टेड ब्लॉग बनाने के बारे में बात की जाए तो इसके लिए सबसे पहले डोमेन नाम और वेब होस्टिंग की जरुरत होती है। और वेबसाइट में सबसे जरुरी एक डोमेन नाम होता है।

आज भी बहुत से लोग डोमेन शब्द से अनजान है। या ब्लॉगिंग क्षेत्र से जुड़ने की चाह रखने वाले अक्सर डोमेन नाम और वेब होस्टिंग के बीच उलझ जाते है और अच्छे से समझ नहीं पाते की आखिर डोमेन नाम क्या है और यह कैसे काम करता है। इसलिए इस लेख में हमने Domain Name क्या है ? विषय की पूरी जानकारी समाहित करने का प्रयाश किया है।

Domain Name क्या है ?

डोमेन नाम जिसे URL (Uniform Resource Locato) भी कहा जाता है। सबसे आसान शब्दों में Domain Name क्या है, को परिभाषित करे तो यह वेबसाइट में विजिट करने का पता होता है जिसे हम अपने कंप्यूटर या स्मार्टफोन के वेब ब्राउज़र में यूआरएल या सर्च बॉक्स में टाइप कर उस वेबसाइट तक पहुंच सकते है। उदहारण mrgyani .com .

इंटरनेट से जुड़े सभी कंप्यूटर की एक पहचान संख्या होती है जिसे IP एड्रेस या इंटरनेट प्रोटोकॉल कहा जाता है। जो अव्यवस्थित नंबर्स 192.158. 1.38 जैसे होते है। जिन्हे याद रखना आसान नहीं है। इसलिए डोमेन नाम को लोगो की सहूलियत के लिए बनाया गया ताकि आसानी से उस वेबसाइट पते पर पहुंचा जा सके।

डोमेन नाम कैसे काम करते हैं?

DNS जिसका पूरा नाम Domain Name System है। DNS में सभी डोमेन की जानकारी होती है। यह लोगो द्वारा पढ़ने लायक डोमेन को मशीन भाषा / IP एड्रेस में अनुवाद कर सर्वर तक रिक्वेस्ट पहुंचने का कार्य करता है।

तो जब भी हम वेब ब्राउज़र के यूआरएल सर्च बॉक्स में डोमेन टाइप करके एंटर करते है तो इसका रिक्वेस्ट सबसे पहले DNS सर्वर में जाता है, जंहा इसे आगे name servers तक पहुंचाया जाता है। उसके बाद सर्वर में स्टोर्ड वेबसाइट लोकेशन तक पहुँचता है। जिसके परिणाम स्वरुप वेबसाइट हमरे ब्राउज़र में खुल जाता है।

डोमेन नाम के प्रकार

इंटरने में ब्राउज़िंग करते वक्त आपने अक्सर अलग अलग तरह के वेबसाइट में विजिट किया होगा। और ध्यान दिया होगा की अलग अलग वेबसाइट के नाम के अंत में डॉट कॉम के जगह में। डॉट इन , डॉट gov आदि होते है। डोमेन के अंत में डॉट के बाद लगने वाले नाम को डोमेन एक्सटेंशन कहते है। और ये अलग अलग नामो के होते है। तो आइये जाने डोमेन एक्सटेंशन के प्रकारो को।

1. Generic Top Level Domain (gTLD)

जेनेरिक टॉप लेवल डोमेन इसमें डोमेन एक्सटेंशन तीन या तीन से अधिक अक्षरों का होता है। TLD को डोमेन प्रकारो में सबसे ऊँचे दर्जे का माना जाता है और इसका सबसे ज्यादा प्रयोग होता है। gTLD नाम 100 से भी ज्यादा है , जिनमे सबसे प्रमुख है डॉट कॉम , डॉट नेट और डॉट ऑर्ग। gTLD के भी दो प्रकार होते है। sTLD और uTLD .

Sponsored Top Level Domain – sTLD

इसे किसी निश्चित समुदाय या संस्था को दर्शाने के लिए बनाया गया है। जो यह दर्शाती है की यह समुदाय किस तरह का है। जैसे डॉट gov को सरकारी संस्थाओ के वेबसाइट में इस्तेमाल किया जाता है। और डॉट edu को शैक्षणिक संस्थाओ में उपयोग क्या जाता है।

Unsponsored Top Level Domains (uTLD)

uTLD इस शब्द का इस्तेमाल काम ही किया जाता है क्योकि लोग इसे प्रचिलित भाषा में टॉप लेवल डोमेन भी कहते है। uTLD में वे सभी डोमेन आते है जो स्पोंसरेड़ नहीं है और इसमें डॉट कॉम , डॉट नेट और डॉट ऑर्ग जैसे ऊँचे लेवल के नाम भी शामिल है।

2. Country Code Top Level Domain – ccTLD

डोमन नाम के अंत के कसी कंट्री का कोड हो तो वह ccTLD कहकता है। जिसे डॉट इन , डॉट uk , डॉट pk आदि। इसका इस्तेमाल उन वेबसाइट में होता है जिनका कंटेंट केवल उसी देश के ऑडियंस को ध्यान में रखकर तैयार किया जाता है।

More Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Fill out this field
Fill out this field
Please enter a valid email address.
You need to agree with the terms to proceed

Menu