इंटरनेट क्या है? यह कैसे काम करता है

इंटनेट एक बेहतरीन अविष्कार है जिसने हमारे जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया। क्योकि अब यह हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है, जो हमें नए तरीकों से दोस्तों, परिवार, व्यवसायों और सभी प्रकार की जानकारियों से जोड़ता है।

यह समाचार, मनोरंजन, खरीदारी और सामाजिक नेटवर्किंग सहित विभिन्न प्रकार की सामग्री तक की जानकारी भी प्रदान करता है। तो आइये जाने इंटरनेट क्या है, कैसे काम करता है, यह क्यों महत्वपूर्ण है एवं इसके इतिहास बारे में।

इंटरनेट क्या है?

इंटरनेट दुनिया भर के परस्पर (Interconnected) जुड़े कंप्यूटर नेटवर्क का एक विशाल संग्रह है जो दुनिया भर में उपयोगकर्ताओं के बीच डेटा प्रसारित करता है। यह एक ऐसा साधन है जो हमें दुनिया भर की सभी प्रकार की जानकारियों से जोड़ता है व लोगो से तुरंत संपर्क करने की सुविधा देती है जिसे हम मोबाइल व कंप्यूटर जैसे डिजिटल उपकरणों पर इस्तेमाल कर सकते है।

इंटरनेट हमें दुनिया के किसी भी क्षेत्र से जुडी जानकारी मुहय्या करा सकती है जिसकी कल्पना तक नहीं की जा सकती। जिसकी वजह से हमारा जीवन पूरी तरह से बदल चूका है। इसके कारण ही विज्ञान और तकीनीकी अनुसंधानों में तेजी से कार्य संभव हो पाता है।

इंटरनेट ज्ञान का ऐसा भंडार है जिसे कोई भी कभी भी कहीं से भी इस्तेमाल कर सकता है। इसमें दुनिया भर में रह रहे लोग एक दूसरे से बड़े ही आसानी से संपर्क कर सकते है, विचार साझा कर सकते है और एक दूसरे जुड़कर कार्य कर सकते है।

इंटरनेट कैसे काम करता है?

इंटरनेट करोड़ो कम्पूटरो से बना होता है जो राऊटर और स्विच से बनें नेटवर्क के जरिये आपस में जुड़े हुए होते है। यह दुनिया भर के कम्प्यूटरों का ऐसा वैश्विक नेटवर्क है जो टेलीफ़ोन तारो, सैटेलाइट्स और अन्य भौतिक कनेक्शनों के जरिये आपसे में जुड़े है। यह एक इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली है जो कम्पूटरो का इस्तेमाल कर रहे लोगो के बीच संचार के लिए प्रयोग होता है। जिसके कारण यह डाटा का विशाल संग्रह है जिसमे सभी प्रकार की जानकारियां इकठ्ठा होते जाती है।

इससे जुड़े सभी उपकरण संदेशो को एक कंप्यूटर से दूसरे कम्प्यूटर तक संदेशो मे निहित पते के आधार पर रॉउट करते है। इन सभी उपकारों में अलग अलग आईपी एड्रेस होते जो उन्हें एक दूसरे से संचार करने की सुविधा देते है।

इंटरनेट के इस्तेमाल करने के दो मुख्य तरीके है पहला वायरलेस और दूसरा है वायर्ड कनेक्शन जो केबल के जरिये जोड़ा जाता है जैसे ब्रॉडबैंड। वायर्ड कनेक्शन वायरलेस से अधिक तेज होते है लेकिन इनमे केबल्स का प्रयोग होता है। वैसे वायरलेस इंडोर और आउटडोर में भी बेहतर कार्य करते है, इसके बावजूद यह वायर्ड इंटरनेट से धीमे होते है। इंटरनेट सेवा उपलब्ध कराने वाली संस्थाओ को ISP यानि इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर कहते है।

इंटरनेट का इतिहास

इंटरनेट असलियत में अमेरिका के रक्षा विभाग द्वारा एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी नेटवर्क (ARPANET) परियोजना के हिस्से के रूप में बनाया गया था। इसे लोगो के लिए पहली बार साल 1983 में चालू किया गया था। इंटरनेट के चालू होने के लगभग दो सालो बाद यानि साल 1985 में नेशनल साइंस फाउंडेशन ने वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) के निर्माण के लिए राशि की घोषणा की। यह एक ऐसी इनफार्मेशन सर्विस है जो हमें रिमोट सर्वर पे सुरखित डाक्यूमेंट्स को कही से भी देखने की सुविधा देती है।

इंटरनेट की विशेषताएं

इंटरनेट की पहुँच ने इतनी बड़ी दुनिया को छोटा कर दिया और हमारे जीने के तरीके, रहन सहन और काम करने के तरीके को भी बदल दिया। जिसकी वजह से हमारी जिंदगी पहले से अधिक बेहतर हो गई। इंटरनेट ने ई-लर्निंग के जरिये शिक्षा के क्षेत्र में भी एक नया क्रांति ला दिया है। यह हमें दोस्तों और परिवार से सम्पर्क करने, ऑनलाइन सामन खरीदना, अनुसन्धान विषयो पर जानकारी, और भी बहुत कुछ सुविधा उपलब्ध कराती है। जाने कौन कौन सी चीजें इंटरनेट को ख़ास बनाती है।

उपयोग में आसानी

इंटरनेट का इस्तेमाल करना बेहद ही आसान है क्योकि इंटरनेट तक पहुँचने में जिन सॉफ्टवर्स यानि वेब ब्राउज़र का इस्तेमाल होता है उन्हें लोगो की सहूलियत के हिसाब से साधारण साधारण इंटरफ़ेस वाला बनाया जाता है। जिस वजह से वेब ब्राउज़र को हर कोई बड़े ही आसानी से सीख और चला सकता है।

इंटरनेट की पहुँच

यह एक विश्वव्यापी सेवा है जिसे हर कोई उपयोग कर सकते है। आज के दौर में इंटरनेट की पहुँच दुनिया दुनिया के लगभग सभी जगहों तक फ़ैल गई है। और लगभग सभी गांव और पिछड़े इलाको में भी अलग अलग माध्यमों से इसकी सुविधा मिल जाती है।

कम लागत और सुरक्षा

इंटरनेट सेवा ममुहय्या कराने, रख-रखाव और डेवलपमेंट की लागत पहले की तुलना में भीड़ काम हो चुकी है। इसके अलावा इंटरनेट का उपयोग सुरक्षा सम्बंधित सेवाओं में भी होने लगा है।

मीडिया से सहभागिता

इंटरनेट पर समाचार और मनोरंजन से लेकर सभी तरह की सेवाएं मौजूद होती है। जिसका इस्तेमाल करके समाचार और पत्रिकाओं का प्रकाशन करने वाली संथाओ ने भी ने अच्छी तरह इस्तमाल कर अपने व्यापर को बढ़ाया।

आईटी प्रौद्योगिकी का विस्तार

इंटरनेट ने हमारे जीने के तरीके, रहन सहन और काम करने के तरीके को भी बदल दिया। जिसकी वजह से जिंदगी पहले से अधिक बेहतर हो गई है। इंटरनेट व्यापारिक सस्थाओं को एक साथ कार्य करने तथा आईटी तकनीक को लोगो और संस्थाओ के साथ साझा करने की सुविधा देती है।

संचार और अनुकूलनशीलता

इंटरनेट ने संचार सुविधा को आसान किया और पहले से अधिक कुशल बना दिया। आज के दौर में इंटरनेट सबसे अनुकूल संचार माध्यम है जो जानकारियाँ साझा करने और दुनिभर में रह रहे लोगो से संपर्क करने की बेहतर सुविधा देती है जिसमे टेक्स्ट, वॉइस और वीडियो जैसे संचार सुविधाएँ उपलब्ध है। इंटरनेट संचार साधनो में ईमेल, इंस्टेंट मेसेजिंग, इत्यादि शामिल है। और इन सेवाओं का प्रयोग व्यक्तिगत या संगठनो द्वारा किया जा सकता है। तथा इसे जरूरतों अनुसार तीन भागों – सरफेस वेब, डीप वेब और डार्क वेब में बाँटा गया।

FAQ

इंटरनेट बैंकिंग क्या है?

इंटरनेट बैंकिंग को ऑनलाइन या नेट बैंकिंग भी कहा जाता है। इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से बैंक से जुडी सभी जरुरी बैंकिंग और पेमेंट सुविधाएं ऑनलाइन उपलब्ध होती है।

इंटरनेट का पूरा नाम क्या है?

इंटरनेट का पूरा नाम है इंटरकनेक्टेड नेटवर्क। यह नेटवर्क प्रणाली है जिससे लाखो वेब सर्वर आपस में जुड़े होते है।

इंटरनेट का अर्थ क्या है?

इंटरनेट का अर्थ है दुनिया भर के परस्पर (Interconnected) जुड़े कम्पूटरो यानि वेब सर्वर की नेटवर्क प्रणाली।

Leave a Comment