ऑप्टिकल फाइबर क्या है? कैसे काम करता है

ऑप्टिकल फाइबर आज तक की नवीनतम तकनीक में से एक है ऐसा इसलिए क्योंकि ऑप्टिकल फाइबर केबल के अंदर डेटा, प्रकाश और कांच के माध्यम से यात्रा करता है। आज हम इस बारे में चर्चा करेंगे कि ऑप्टिकल फाइबर क्या है और इसकी विशेषताएं क्या हैं।

Optical fiber क्या हैं | What is optical fiber in hindi

ऑप्टिकल फाइबर पतले कांच या प्लास्टिक से बनी एक तार है जिसके माध्यम से लेजर और लाइट का उपयोग करके डेटा ट्रांसफर किया जाता है। एक स्पेशल कोने से लाइट दिखाने पर यह टोटल इंटरनल रिफ्लेक्शन (total internal reflection) के सिद्धांत पर कार्य करता हैं।

ऑप्टिकल फाइबर केबल में बिजली की जगह लाइट और लेजर का संचार होता हैं। लेजर और लाइट का उपयोग करके इसकी स्पीड को बहुत तेज किया गया हैं। सुरक्षा के लिए इस तार के बाहर प्लास्टिक, वॉटर रेजिस्टेंस जैसी 8 प्रकार की परत चढ़ी हुई होती है। अन्य तारों के मुकाबले ऑप्टिकल फाइबर की तार बहुत महंगी होती हैं।

Optical fiber cable कार्य कैसे करता है

ऑप्टिकल फाइबर केबल के दोनों छोर पर ट्रांसमीटर और रिसीवर लगा होता है पहले छोर से ट्रांसमीटर द्वारा इलेक्ट्रॉनिक डेटा को लाइट और लेजर में बदला जाता है, जिसके बाद ऑप्टिकल फाइबर के माध्यम से डेटा को दूसरे ट्रांसमीटर में भेजा जाता है। दूसरे छोर के रिसीवर से डाटा वापस लाइट और लेजर से इलेक्ट्रॉनिक डाटा में कन्वर्ट होता है फिर हम इसे ब्रॉडबैंड या वाईफाई से कनेक्ट करके इस्तेमाल करते हैं।

ऑप्टिकल फाइबर केबल के प्रकार

Loose configuration

इस फाइबर ऑप्टिकल केबल में कांच या फाइबर की कोर के चारों ओर एक लिक्विड जेल भरा होता है ये जेल प्रोटेक्शन के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसकी कीमत काफी कम होती हैं।

Tight configuration

इसमें स्ट्रेट वायर का उपयोग किया जाता है जोकि इसे तोड़ने और मोड़ने से बचाती है। स्ट्रेट वायर के कारण इसका वजन ज्यादा होता हैं।

Single mode

इस केबल में सिर्फ एक ही लाइट पाथ होती है जिसके कारण इसमें एक टाइम पर सिर्फ एक ही लाइट सिग्नल फ्लो हो सकता है लेकिन यह केबल बहुत लंबी दूरी तक डेटा फ्लो करा सकती हैं।

Multi mode

इस केबल में एक से अधिक लाइट पाथ होती है जिसके कारण इसमें एक समय पर एक से अधिक लाइट सिग्नल फ्लो हो सकती हैं। अधिक लाइट पाथ के कारण यह केबल लंबी दूरी तक डाटा ट्रांसफर नहीं कर सकती।

Optical fiber internet speed

ऑप्टिकल फाइबर केबल के अंदर डाटा लेजर और लाइट के माध्यम से सफर करता है इसलिए इस केबल के अंदर डाटा बहुत ज्यादा स्पीड ट्रैवल करता है, ऑप्टिकल फाइबर इंटरनेट स्पीड की बात करें तो 1Mb/s से लेकर 10Gb/s तक की डाटा स्पीड को यह सपोर्ट करता हैं।

Optical fiber cable connectors

ऑप्टिकल फाइबर केबल में पांच तरह के कनेक्टर्स उपयोग किए जाते हैं

Five common fiber connectors

  1. ST – straight Tip
  2. FC – fiber channel
  3. SC – square connector
  4. LC – little connector
  5. MT-RJ – mechanical transfer – registered jack

ऑप्टिकल फाइबर के फायदे (advantage of optical fiber)

  • ऑप्टिकल फाइबर केबल दूसरी केबल की तुलना में अधिक बैंडविथ प्रोवाइड कराती है यानी ज्यादा डाटा कैरी कर सकती हैं।
  • यह केबल बहुत हल्की और पतली होती हैं।
  • डाटा को एनालॉग की जगह डिजिटली फॉर्म में ट्रांसफर किया जाता हैं।
  • अन्य केवल के मुकाबले फाइबर ऑप्टिकल में डाटा बहुत तेजी से ट्रांसफर होता हैं।
  • लंबी दूरी तक इस केबल का इस्तेमाल किया जा सकता हैं।
  • ऑप्टिकल फाइबर के नुकसान (Disadvantages of optical fiber)
  • यह केबल आम डाटा केबल के मुकाबले बहुत महंगा आता हैं।
  • ऑप्टिकल फाइबर केबल को इंस्टॉल करना बहुत कठिन हैं।
  • इसे रिपेयर करना बहुत मुश्किल है और इसके लिए एक खास इंजीनियर की आवश्यकता होती हैं।

History of optical fiber

1952 में भारत में जन्मे Narinder Singh kapany ने सबसे पहले फाइबर ऑप्टिकल का निर्माण किया था इसलिए इन्हें फादर ऑफ ऑप्टिकल फाइबर भी कहते हैं। इसके पश्चात 1974 में Dr.robert Maurer, Peter Schultz और Donald Keck ने मिलकर ऑप्टिकल फाइबर को अपग्रेड और डेवलपमेंट किया। आज ऑप्टिकल फाइबर का उपयोग डाटा ट्रांसफर, कम्युनिकेशन सिस्टम, और इंटरनेट चलाने के लिए इसका उपयोग किया जाता हैं।

Best optical fiber internet provider in India

  • Jio fiber
  • Airtel xstreame
  • BSNL

3 thoughts on “ऑप्टिकल फाइबर क्या है? कैसे काम करता है”

Leave a Comment